289 : ग़ज़ल - तकने लगे हैं शौक़ से



तकने लगे हैं शौक़ से आईने अब अंधे ।।
गंजे अमीरुल-ऊमरा रखने लगे कंघे ।।1।।
जानूँ न वो कैसी बिना पर दौड़ते-उड़ते ,
ना पैर हैं उनके न उनकी पीठ पर पंखे ।।2।।
ये जायदादो मिल्क़ियत , माया , ख़ज़ाने सब ,
उनने जमा सचमुच किए कर-कर खरे धंधे ।।3।।
जितना बदन शफ़्फ़ाक़ है उनका कँवल सा वो ,
उतने ही हैं दिल के बुरे , नापाक औ' गंदे ।।4।।
ख़ुशियाँ हमेशा ही लगीं मानिंद ए फुट-इंच ,
ग़म लगे हमको प्रकाशी वर्ष से लंबे ।।5।।
मेहसूल भी देते जहाँ के लोग रो-रो कर ,
देंगे मदद के नाम पर क्या हँस के वो चंदे ?6।।
पीते नहीं कितने ही दारू बेचने वाले ,
मालिक न लेकिन कपड़ा मिल के रह सकें नंगे ।।7।। 
उसका है जीने का तरीक़ा मुफ़्लिसों जैसा ,
कितने ख़ज़ानों पर मगर उसके गड़े झंडे ।।8।।
जब मानते ही तुम नहीं मौज़ूदगी रब की ,
क्यों बाँधते हो हाथ में ता'वीज़ औ' गंडे ।।9।।
 -डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

yashoda Agrawal said…
आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शनिवार 29 फरवरी 2020 को साझा की गई है...... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!
धन्यवाद । यशोदा अग्रवाल जी ।
धन्यवाद । मीना शर्मा जी ।

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्तक : 946 - फूल