Wednesday, January 1, 2020

गीत : साल नया सबको मुबारक़


हो साल नया सब को मुबारक़ न कहूँगा !!
इस बार में नववर्ष का स्वागत न करूँगा ।।
रंजीदा हूँ , ग़मगीन हूँ , मातम से भरा हूँ ,
बाहर से लगूँ ज़िंदा पर अंदर से मरा हूँ ,
महफ़िल को लगाने दो ठहाकों पे ठहाके ,
मैं तो मज़ाक़ो-मस्ख़री पे भी न हँसूँगा ।।
हो साल नया सब को मुबारक़ न कहूँगा !!
इस सन में यूँ तक़्लीफ़ उठाई है सुनो तो ,
बारिश में पतँग जैसे उड़ाई है सुनो तो ,
उम्मीद की अब भी न किरन सामने मेरे ,
बेरहम मुश्क़िलों से मैं कब तक के लडूँगा ।।
हो साल नया सब को मुबारक़ न कहूँगा !!
सूरत में किसी भी वो किसी हाल में तय थी ,
जिस ख़्वाब की ताबीर इसी साल में तय थी ,
ख़त्म उसकी मियाद हो गई जब कुछ न बचा रे ,
अरमाँ मैं भला क्या कोई अब पाल सकूँगा ?
हो साल नया सब को मुबारक़ न कहूँगा !!
इस बार में नववर्ष का स्वागत न करूँगा ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

2 comments:

Kavita Rawat said...

आगत का स्वागत करने की परम्परा सदियों से
यही कहेंगे नववर्ष मंगलमय हो आपका!

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

आपका भी । धन्यवाद ।

मुक्तक : 941 - बेवड़ा

लोग चलते रहे , दौड़ते भी रहे ,  कोई उड़ता रहा , मैं खड़ा रह गया ।। बाद जाने के तेरे मैं ऐसी जगह ,  जो गिरा तो पड़ा का पड़ा रह गया ।...