Saturday, December 28, 2019

मुक्तक : 943 - मिर्ची


 मिर्ची ही गुड़ समझकर हँस-हँस चबा रहे हैं ।।
तीखी है पर न आँखें टुक डबडबा रहे हैं ।।
कुछ हो गया कि चाकू से काटते हैं पत्थर ,
पानी को मुट्ठियों में कस-कस दबा रहे हैं ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

ग़ज़ल : 285 - बदनसीब हरगिज़ न हो

चोर हो , डाकू हो , क़ातिल हो , ग़रीब हरगिज़ न हो ।। आदमी कुछ हो , न हो बस , बदनसीब हरगिज़ न हो ।। ज़िंदगी उस शख़्स की , क्या ज़िंदगी है दो...