Tuesday, December 24, 2019

मुक्तक : 941 - बेवड़ा


लोग चलते रहे , दौड़ते भी रहे , 
कोई उड़ता रहा , मैं खड़ा रह गया ।।
बाद जाने के तेरे मैं ऐसी जगह , 
जो गिरा तो पड़ा का पड़ा रह गया ।।
सोचता हूँ कि कितने मेरे सामने , 
नाम तक भी न दारू का जिनने लिया ;
इक के बाद इक गुजरते गए दिन-ब-दिन , 
ज़िंदा मुझ जैसा क्यों बेवड़ा रह गया ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

ग़ज़ल : 285 - बदनसीब हरगिज़ न हो

चोर हो , डाकू हो , क़ातिल हो , ग़रीब हरगिज़ न हो ।। आदमी कुछ हो , न हो बस , बदनसीब हरगिज़ न हो ।। ज़िंदगी उस शख़्स की , क्या ज़िंदगी है दो...