Sunday, December 29, 2019

ग़ज़ल : 283 - आशिक़ी


मुझको लगता है ये ज़ह्र खा , ख़ुदकुशी कर ना जाऊँ कहीं ? 
अगले दिन की करूँ बात क्या , आज ही कर ना जाऊँ कहीं ? 
है तो दुश्मन मेरा वो मगर , ख़ूबसूरत हसीं इस क़दर ;
देखकर मुझको होता है डर , आशिक़ी कर ना जाऊँ कहीं ? 
एक वाइज हूँ मैं पर मेरी , इक शराबी से है दोस्ती ;
मुझ को शक़ हो मैं भूले कभी , मैक़शी कर ना जाऊँ कहीं ? 
मस्ख़री की लतीफ़ेे कहे , देख सुन भी वो चुप ही रहे ;
देखने उसका हँसना उसे , गुदगुदी कर ना जाऊँ कहीं ?
आज हालात हैं पेश वो , उम्र भर हाय जिस काम को ;
सख़्त करने से बचता रहा , मैं वही कर ना जाऊँ कहीं ? 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

6 comments:

Ravindra Singh Yadav said...

जी नमस्ते,
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा सोमवार (30-12-2019) को 'ढीठ बन नागफनी जी उठी!' चर्चा अंक 3565 पर भी होगी।
आप भी सादर आमंत्रित हैं…
*****
रवीन्द्र सिंह यादव

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद । Ravindra Singh Yadav जी ।

मन की वीणा said...

बहुत उम्दा।

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद । मन की वीणा जी ।

Jyoti khare said...

वाह
बहुत सुंदर
सादर

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद । ज्योति खरे जी ।

ग़ज़ल : 285 - बदनसीब हरगिज़ न हो

चोर हो , डाकू हो , क़ातिल हो , ग़रीब हरगिज़ न हो ।। आदमी कुछ हो , न हो बस , बदनसीब हरगिज़ न हो ।। ज़िंदगी उस शख़्स की , क्या ज़िंदगी है दो...