Friday, November 15, 2019

ग़ज़ल : 282 - शंघाई


हूँ बहुत बदशक्ल कुछ रानाई लाकर दे ।।
देख सब मुँह फेरें इक शैदाई लाकर दे ।।
हर तरफ़ से बस नुकीला खुरदुरा ही हूँ ,
आह कुछ गोलाई , कुछ चिकनाई लाकर दे ।।
बख़्श मत ऊँचाई बेशक़ बित्ते भर क़द को ,
आदमी जैसी मगर लंबाई लाकर दे ।।
मुझ में खोकर , मुझसे ! खुद को ; ज्यों का त्यों वापस ,
वो न थी जिसकी ज़ुबाँ चिल्लाई लाकर दे ।।
मह्फ़िलो मज्मा मुझे बेचैन करते हैं ,
जो सुकूँ दे , मुझको वो तनहाई लाकर दे ।।
ख़्वाब में तोहफ़े में उसने मुझको दी दिल्ली ,
मैंने नींदों में कहा शंघाई लाकर दे ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

10 comments:

Rohitas ghorela said...

चाहतों की दुनियां में देखो क्या क्या होता है।
शानदार रचना।

मेरी कुछ पंक्तियां आपकी नज़र 👉👉 ख़ाका 

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद । रोहितास जी ।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' said...

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (17-11-2019) को     "हिस्सा हिन्दुस्तान का, सिंध और पंजाब"     (चर्चा अंक- 3522)    पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
-- 
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
--
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद । शास्त्री जी ।

Unknown said...

Bahut shaandar

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद ।

Anita saini said...

बेहतरीन अभिव्यक्ति आदरणीय सृजन के माध्यम से मानवीय मूल्यों की गुहार मन द्रवित कर गयी.
सादर

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद । अनिता सैनी जी ।

मन की वीणा said...

वाह बहुत खूब, शानदार प्रस्तुति।

डॉ. हीरालाल प्रजापति said...

धन्यवाद । मन की वीणा ।

ग़ज़ल : 285 - बदनसीब हरगिज़ न हो

चोर हो , डाकू हो , क़ातिल हो , ग़रीब हरगिज़ न हो ।। आदमी कुछ हो , न हो बस , बदनसीब हरगिज़ न हो ।। ज़िंदगी उस शख़्स की , क्या ज़िंदगी है दो...