Monday, September 9, 2019

मुक्तक : 918 - गुलगुला


तीखा मौसम मालपुआ , गुलगुला हुआ है ।।
धरती गीली श्याम गगन अब धुला हुआ है ।।
हम इसके आनन्द में रम भूल ये गए कब ,
बरखा बंद हुई पर छाता खुला हुआ है ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

मुक्तक : 583 - हे शिव जो जग में है

हे शिव जो जग में है अशिव तुरत निवार दो ।। परिव्याप्त मलिन तत्व गंग से निखार दो ।। स्वर्गिक बना दो पूर्वकाल सी धरा पुनः , या खो...