मुक्तक : 917 - बिल


जब कभी तू हर इक शख़्स का ख़्वाब थी ,
तू मेरा भी थी मक़्सद , थी मंज़िल कभी ।।
आशिक़ों की तेरे जब बड़ी फ़ौज थी ,
उसमें चुपके से मैं भी था शामिल कभी ।।
तू न माने ज़माने के आगे तो क्या ,
है हक़ीक़त मगर तुझको सारी पता ,
मेरे दिल में तेरी एक बड़ी माँद थी ,
तेरे दिल में था मेरा भी इक बिल कभी ।। 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

बहुत ही बढ़िया सर बस पाठ का कर पृष्ठ का रंग संयोजन हल्का और गाढ़े का रखें दोनों एक सा होने से पढ़ने में दिक्कत आती है
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (10-09-2019) को     "स्वर-व्यञ्जन ही तो है जीवन"  (चर्चा अंक- 3454)  पर भी होगी।--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
धन्यवाद । अजय कुमार झा जी । अवश्य.....
धन्यवाद । शास्त्री जी ।
बहुत सुंदर प्रस्तुति।
धन्यवाद । मन की वीणा ।

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

सिर काटेंगे