Thursday, August 15, 2019

तिरंगा


बात करता है तिरंगे को जलाने की ।।
कोशिशें करता है भारत को मिटाने की ।।
ये सितारा-चाँद हरे रँग पर जड़े झण्डा ,
सोचता है बंद हवा में फरफराने की ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

ग़ज़ल : 285 - बदनसीब हरगिज़ न हो

चोर हो , डाकू हो , क़ातिल हो , ग़रीब हरगिज़ न हो ।। आदमी कुछ हो , न हो बस , बदनसीब हरगिज़ न हो ।। ज़िंदगी उस शख़्स की , क्या ज़िंदगी है दो...