तिरंगा


बात करता है तिरंगे को जलाने की ।।
कोशिशें करता है भारत को मिटाने की ।।
ये सितारा-चाँद हरे रँग पर जड़े झण्डा ,
सोचता है बंद हवा में फरफराने की ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक