Saturday, August 17, 2019

मुक्तक : 914 - मरीज़-ए-इश्क़


मैंने माना मैं मरीज़-ए-इश्क़ तेरा , 
और तू मेरे लिए बीमार है , हाँ ।।
दरमियाँ अपने मगर सदियों पुरानी ; 
एक पक्की चीन की दीवार है , हाँ ।।
इक बड़ा सा फ़र्क़ तेरी मेरी हस्ती ; 
ज़ात , मज़हब , शख्स़ियत , औक़ात में है ,
यूँ समझ ले मैं हूँ इक अद्ना सी मंज़िल ; 
तू फ़लकबोस इक कुतुबमीनार है , हाँ ।।
( दरमियाँ = मध्य , फ़लकबोस = गगनचुंबी )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

मुक्तक : 583 - हे शिव जो जग में है

हे शिव जो जग में है अशिव तुरत निवार दो ।। परिव्याप्त मलिन तत्व गंग से निखार दो ।। स्वर्गिक बना दो पूर्वकाल सी धरा पुनः , या खो...