Tuesday, August 13, 2019

मुक्तक : 913 - स्वप्न


दादुर उछल शिखी को नचना सिखा रहा है ।।
ज्ञानी को अज्ञ अपनी कविता लिखा रहा है ।।
उठ बैठा चौंककर मैं जब स्वप्न में ये देखा ,
इक नेत्रहीन सुनयन को अँख दिखा रहा है ।।
( दादुर = मेंढक , शिखी = मोर , अज्ञ = मूर्ख )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

मुक्तक : 583 - हे शिव जो जग में है

हे शिव जो जग में है अशिव तुरत निवार दो ।। परिव्याप्त मलिन तत्व गंग से निखार दो ।। स्वर्गिक बना दो पूर्वकाल सी धरा पुनः , या खो...