Posts

Showing posts from August, 2019

मुक्तक : 914 - मरीज़-ए-इश्क़

Image
मैंने माना मैं मरीज़-ए-इश्क़ तेरा ,  और तू मेरे लिए बीमार है , हाँ ।। दरमियाँ अपने मगर सदियों पुरानी ;  एक पक्की चीन की दीवार है , हाँ ।। इक बड़ा सा फ़र्क़ तेरी मेरी हस्ती ;  ज़ात , मज़हब , शख्स़ियत , औक़ात में है , यूँ समझ ले मैं हूँ इक अद्ना सी मंज़िल ;  तू फ़लकबोस इक कुतुबमीनार है , हाँ ।। ( दरमियाँ = मध्य , फ़लकबोस = गगनचुंबी ) -डॉ. हीरालाल प्रजापति

तिरंगा

Image
बात करता है तिरंगे को जलाने की ।। कोशिशें करता है भारत को मिटाने की ।। ये सितारा-चाँद हरे रँग पर जड़े झण्डा , सोचता है बंद हवा में फरफराने की ।। -डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्तक : 913 - स्वप्न

Image
दादुर उछल शिखी को नचना सिखा रहा है ।। ज्ञानी को अज्ञ अपनी कविता लिखा रहा है ।। उठ बैठा चौंककर मैं जब स्वप्न में ये देखा , इक नेत्रहीन सुनयन को अँख दिखा रहा है ।। ( दादुर = मेंढक , शिखी = मोर , अज्ञ = मूर्ख ) -डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्तक : 912 - तस्वीर

Image
धागा भी हो गया इक ज़ंजीर आज तो ।। काँटा भी लग रहा है शमशीर आज तो ।। कल तक की भीगी बिल्ली बन बैठी शेरनी , तब्दीलियों की देखो तस्वीर आज तो ।। -डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्तक : 911 - हुजूर

Image
सोचा नहीं था मुझसे मेरा हुजूर होगा ।। जितना क़रीब था वो उतना ही दूर होगा ।। मैं मानता कहाँ हूँ दस्तूर इस जहाँ का  , आया है जो भी उसको जाना ज़रूर होगा ? -डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्तक : 910 - बारिश

Image
उनसे मिलकर हमको करना था बहुत कुछ रात भर ।।  कर सके लेकिन बहुत कुछ करने की हम बात भर ।। नाम पर बारिश के बदली बस टपक कर रह गयी , हमने भी कर उल्टा छाता उसमें ली बरसात भर ।। -डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्तक : 909 - बरसात

Image
उड़-दौड़-चलते-चलते थक स्यात् रुक गई है ।। हो-होके ज्यों झमाझम दिन-रात चुक गई है ।। छतरी न थी तो बरखा रह-रह बरस रही थी , छाता खरीदते ही बरसात रुक गई है ।। -डॉ. हीरालाल प्रजापति