चौकीदार


उनके जिनके मंत्रियों से सीधे व्यवहार ।।
करते उनमें से कई चोरी-भ्रष्टाचार ।।
उस पर तुर्रा यह कि चढ़ मंचों पर बेशर्म ,
चिल्ला-चिल्ला बोलते हम हैं चौकीदार ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म