Saturday, June 9, 2018

मुक्त मुक्तक : 886 - रिक्शे सी ज़िन्दगी......


अजगर जहाँ में मैं भी अब बन गरुड़ रहा हूँ ।।
मंज़िल पे रख निगाहें कहुँँ भी न मुड़ रहा हूँ ।।
रिक्शे सी ज़िन्दगी को कर दूँ मैं कार  कैसे ?
ये सोच सोच पंखों के बिन ही उड़ रहा हूँ ।। 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

मुक्तक : 583 - हे शिव जो जग में है

हे शिव जो जग में है अशिव तुरत निवार दो ।। परिव्याप्त मलिन तत्व गंग से निखार दो ।। स्वर्गिक बना दो पूर्वकाल सी धरा पुनः , या खो...