मुक्त-ग़ज़ल : 259 - पापड़



   जिस्म धन-दौलत सा जोड़ा जा रहा है ।।
   और दिल पापड़ सा तोड़ा जा रहा है ।।
   दौड़ता है पीछे-पीछे मेरा कछुआ ,
   आगे-आगे उनका घोड़ा जा रहा है ।।
   पहले ख़ुद डाला गया उस रास्ते पर ,
   अब उसी से मुझको मोड़ा जा रहा है ।।
   तोड़कर फिर काटकर हम नीबुओं को ,
   मीठे गन्ने सा निचोड़ा जा रहा है ।।
   उनका ग़म अब धीरे-धीरे , धीरे-धीरे ,
   थोड़ा-थोड़ा , थोड़ा-थोड़ा जा रहा है ।।
   वो हुए नाकाम अपनी वज्ह से ही ,
   ठीकरा औरों पे फोड़ा जा रहा है ।।
   -डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी