ग़ज़ल : 256 - मंज़िल



सच दोस्ती न रिश्तेदारी न प्यार है ।।
दुनिया में सबसे बढ़कर बस रोज़गार है ।।1।।
मंज़िल पे हमसे पहले पहुंँचे न क्यों वो फिर ,
हम पे न साइकिल भी उसपे जो कार है ।।2।।
सामाँँ है जिसपे ऐशो-आराम के सभी ,
है फूल उसी को जीवन बाक़ी को ख़ार है ।।3।।
बारूद के धमाके सा दे सुनाई क्यों ,
जब-जब भी उसके दिल में बजता सितार है ?4।
हर वक़्त रोशनी का है इंतिज़ाम यूंँ ,
रातों को भी वहांँ पर लगता नहार है ।।5।।
उतना है वह परेशाँँ , उतना ही ग़मज़दा ,
इस दौर में जो जितना ईमानदार है ।।6।।
( ख़ार = काँटा / नहार = दिन , दिवस )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्तक : 946 - फूल