Monday, June 11, 2018

ग़ज़ल : 255 - वो मेरा है.......



बड़ी जिद्दोजहद से , कशमकश से , सख्त़ मेहनत से ।।
मोहब्बत मैंने की दुश्मन से अपने घोर नफ़रत से ।।1।।
न भूले भी पड़ा क्यों इश्क़ के पचड़ों - झमेलों में ?
बचाए ख़ुद को रखने ही ज़माने भर की आफ़त से ।।2।।
वो मेरा है ; मगर अच्छा नहीं , कब तक रहूंँ मैं चुप ?
बहुत मज़्बूर हूँ इस अपनी सच कहने की आदत से ।।3।।
न रोऊँ मैं अजब है अपनी बर्बादी पे हांँ लेकिन ,
मैं जल उठता हूंँ झट काफ़ूर सा औरों की बरकत से ।।4।।
मेरा सर काट के फ़ुटबॉल ही उसकी बना लो तुम ,
रहम करके न खेलो राह चलते मेरी अस्मत से ।।5।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

ग़ज़ल : 285 - बदनसीब हरगिज़ न हो

चोर हो , डाकू हो , क़ातिल हो , ग़रीब हरगिज़ न हो ।। आदमी कुछ हो , न हो बस , बदनसीब हरगिज़ न हो ।। ज़िंदगी उस शख़्स की , क्या ज़िंदगी है दो...