Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Saturday, June 30, 2018

मुक्त-ग़ज़ल : 261 - ग़ज़लें



नंगे पांँवों जब काँटों पर चलना आता था ।।
तब मुझ को तक़्लीफ़ में भी बस हंँसना आता था ।।
उसके ग़म में सच कहता हूंँ हो जाता पागल ,
मेरी क़िस्मत मुझको ग़ज़लें कहना आता था ।।
उसने मुंँह से कब कुछ बोला रब का शुक्र करो ,
मुझ को बचपन से आंँखों को पढ़ना आता था ।।
उसकी जाने कैसी-कैसी पोलें खुल जातीं ,
वो तो राज़ मुझे सीने में रखना आता था ।।
वह तन कर ही रहता था तो कट बैठा जल्दी ,
मैं हूंँ सलामत मुझको थोड़ा झुकना आता था ।।
इंसाँँ हूंँ यह सोच किसी को फुफकारा भी कब ,
वरना मुझ को भी सांँपों सा डसना आता था ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Thursday, June 28, 2018

मुक्त-ग़ज़ल : 260 - कैसे-कैसे लोग



   कैसे-कैसे लोग दुनिया में पड़े हैं ।।
   सोचते पाँवों से सिर के बल खड़े हैं ।।
   आइनों के वास्ते अंधे यहाँँ , वाँ
   गंजे कंघों की खरीदी को अड़े हैं ।।
   जिस्म पर खूब इत्र मलकर चलने वाले ,
   कुछ सड़े अंडों से भी ज्यादा सड़े हैं ।।
   बस तभी तक जिंदगी ख़ुशबू की समझो ,
   जब तलक गहराई में मुर्दे गड़े हैं ।।
   देखने में ख़ूबसूरत इस जहाँँ के ,
   आदमी कुछ बेतरह चिकने घड़े हैं ।।
   सिर न जब तक कट गिरा हम दम से पूरे ,
   ज़िंदगी से जंग रोज़ाना लड़े हैं ।।
   -डॉ. हीरालाल प्रजापति

Wednesday, June 27, 2018

मुक्त-ग़ज़ल : 259 - पापड़



   जिस्म धन-दौलत सा जोड़ा जा रहा है ।।
   और दिल पापड़ सा तोड़ा जा रहा है ।।
   दौड़ता है पीछे-पीछे मेरा कछुआ ,
   आगे-आगे उनका घोड़ा जा रहा है ।।
   पहले ख़ुद डाला गया उस रास्ते पर ,
   अब उसी से मुझको मोड़ा जा रहा है ।।
   तोड़कर फिर काटकर हम नीबुओं को ,
   मीठे गन्ने सा निचोड़ा जा रहा है ।।
   उनका ग़म अब धीरे-धीरे , धीरे-धीरे ,
   थोड़ा-थोड़ा , थोड़ा-थोड़ा जा रहा है ।।
   वो हुए नाकाम अपनी वज्ह से ही ,
   ठीकरा औरों पे फोड़ा जा रहा है ।।
   -डॉ. हीरालाल प्रजापति

Saturday, June 23, 2018

मुक्त-ग़ज़ल : 258 - फूल.....


देते हैं ज़ख़्म पत्थर को भी यहाँँ के फूल ।।
देती पहाड़ को भी टक्कर इधर की धूल ।।
हेठी क्या इसमें ख़ुद बढ़ हाथी सुलह करे ,
चींटी से दुश्मनी को देना न ठीक तूल ।।
सर सर के बदले टांँगों के बदले सिर्फ टाँँग ,
इंसाफ़ का मुझे यह लगता सही उसूल ।।
सोने की चौखटों में कस कस भी कीजै नज़्र ,
तब भी रहेंगे अंधों को आइने फ़ुज़ूल ।।
पाए हैं उस जगह से सचमुच ही उसने आम ,
बोए थे जिस जगह पर उसने कभी बबूल ।।
करते ज़रूर हैं वो मंज़ूर करना इश्क़ ,
लेकिन निकाह करना करते नहीं क़ुबूल ।।
क्या हो गया गुनह पर अब वो करें गुनाह ,
करते नहीं थे भूले से भी कभी जो भूल ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Thursday, June 21, 2018

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......


  बन सका चिकना न सब कुछ खुरदरा बनवा लिया ।।
  सबने मीनार हमने बौना चौतरा बनवा लिया ।।
  जब बना पाए न हम अपना मकाँ तो जीते जी ,
  क़ब्र खुदवा अपनी अपना मक़्बरा बनवा लिया ।।
  ज़ुर्म क्या गर अपनी बेख़बरी में अपने घर ही पर ,
  अपने बावर्ची से हलवा चरपरा बनवा लिया ।।
  उन से खिंच कर उनकी हद में जा न पहुंँचेंं सोचकर ,
  हमने अपने आसपास इक दायरा बनवा लिया ।।
  प्यास को अपनी बुझाने घर न गंगा ला सके ,
  इसलिए आंँगन में छोटा पोखरा बनवा लिया ।।
  हुक़्म के उसके ग़ुलाम हम इस क़दर थे इक दफ़ा,
  उसने दी चोली तो हमने घाघरा बनवा लिया ।।
  -डॉ. हीरालाल प्रजापति

Monday, June 18, 2018

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल



ना दोस्ती न रिश्तेदारी न प्यार है ।।
दुनिया में सबसे बढ़कर बस रोज़गार है ।।
मंज़िल पे हमसे पहले पहुंँचे न क्यों वो फिर ,
हम पर न साइकिल भी उस पर जो कार है ।।
सामाँँ है जिसपे ऐशो-आराम के सभी ,
है फूल उसी को जीवन बाक़ी को भार है ।।
बारूद के धमाके सा दे सुनाई क्यों ,
जब-जब भी उसके दिल में बजता सितार है ?
हर वक्त रोशनी का है इंतिज़ाम यूंँ ,
रातों को भी वहांँ पर लगता नहार है ।।
उतना है वह परेशाँँ , उतना ही ग़मज़दा ,
इस दौर में जो जितना ईमानदार है ।।
( नहार = दिन , दिवस )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Monday, June 11, 2018

मुक्त ग़ज़ल : 255 - वो मेरा है.......



बड़ी जिद्दोजहद से , कशमकश से , सख्त़ मेहनत से ।।
मोहब्बत मैंने की दुश्मन से अपने घोर नफ़रत से ।।
न भूले भी पड़ा क्यों इश्क़ के पचड़ों - झमेलों में ?
बचाए ख़ुद को रखने ही ज़माने भर की आफ़त से ।।
वो मेरा है ; मगर अच्छा नहीं , कब तक रहूंँ मैं चुप ?
बहुत मज़्बूर हूँ इस अपनी सच कहने की आदत से ।।
न रोऊँ मैं अजब है अपनी बर्बादी पे हांँ लेकिन ,
मैं जल उठता हूंँ झट काफ़ूर सा औरों की बरकत से ।।
मेरा सर काट के फ़ुटबॉल ही उसकी बना लो तुम ,
रहम करके न खेलो राह चलते मेरी अस्मत से ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Saturday, June 9, 2018

मुक्त मुक्तक : 886 - रिक्शे सी ज़िन्दगी......


अजगर जहाँ में मैं भी अब बन गरुड़ रहा हूँ ।।
मंज़िल पे रख निगाहें कहीं पर न मुड़ रहा हूँ ।।
रिक्शे सी ज़िन्दगी को कर दूँ मैं कार  कैसे ?
ये सोच सोच पंखों के बिन ही उड़ रहा हूँ ।। 
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Sunday, June 3, 2018

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी



उसको चोरी चोरी छुप कर देखना भाता नहीं है ।।
क्या करूँ वह सामने खुलकर मेरे आता नहीं है ?
लोग सब दहशतज़दा तकते ही हों मुझको मगर क्यों ,
धमकियों से भी वो मेरी टुक भी घबराता नहीं है ?
फाँसियों पर टाँगने वाला ज़रा सी भूल पर वो ,
क्यों गुनाहों पर भी मेरे मुझको मरवाता नहीं है ?
क्यों दुआएखै़र मेरे वास्ते करता फिरे वो ?
और क्यों....पूछूंँ तो अपना नाम बतलाता नहीं है ?
नाम पर नुक्स़ाँ के उमरा सर उठाते आस्मांँ को ,
लाल गुदड़ी का वो लुटपिट कर भी चिल्लाता नहीं है ।।
( दुआएख़ैर = कुशलता की कामना ,नुक़्साँ = घाटा , उमरा = अमीर लोग )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति