Posts

Showing posts from June, 2018

ग़ज़ल : 261 - ग़ज़लें

Image
नंगे पांँवों जब काँटों पर चलना आता था ।।
तब मुझ को तक़्लीफ़ में भी बस हंँसना आता था ।।
उसके ग़म में सच कहता हूंँ हो जाता पागल ,
मेरी क़िस्मत मुझको ग़ज़लें कहना आता था ।।
उसने मुंँह से कब कुछ बोला रब का शुक्र करो ,
मुझ को बचपन से आंँखों को पढ़ना आता था ।।
उसकी जाने कैसी-कैसी पोलें खुल जातीं ,
वो तो राज़ मुझे सीने में रखना आता था ।।
वह तन कर ही रहता था तो कट बैठा जल्दी ,
मैं हूंँ सलामत मुझको थोड़ा झुकना आता था ।।
इंसाँँ हूंँ यह सोच किसी को फुफकारा भी कब ,
वरना मुझ को भी सांँपों सा डसना आता था ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

ग़ज़ल : 260 - कैसे-कैसे लोग

Image
कैसे-कैसे लोग दुनिया में पड़े हैं ।।
   सोचते पाँवों से सिर के बल खड़े हैं ।।
   आइनों के वास्ते अंधे यहाँँ , वाँ
   गंजे कंघों की खरीदी को अड़े हैं ।।
   जिस्म पर खूब इत्र मलकर चलने वाले ,
   कुछ सड़े अंडों से भी ज्यादा सड़े हैं ।।
   बस तभी तक जिंदगी ख़ुशबू की समझो ,
   जब तलक गहराई में मुर्दे गड़े हैं ।।
   देखने में ख़ूबसूरत इस जहाँँ के ,
   आदमी कुछ बेतरह चिकने घड़े हैं ।।
   सिर न जब तक कट गिरा हम दम से पूरे ,
   ज़िंदगी से जंग रोज़ाना लड़े हैं ।।
 -डॉ. हीरालाल प्रजापति

ग़ज़ल : 259 - पापड़

Image
जिस्म धन-दौलत सा जोड़ा जा रहा है ।।
   और दिल पापड़ सा तोड़ा जा रहा है ।।
   दौड़ता है पीछे-पीछे मेरा कछुआ ,
   आगे-आगे उनका घोड़ा जा रहा है ।।
   पहले ख़ुद डाला गया उस रास्ते पर ,
   अब उसी से मुझको मोड़ा जा रहा है ।।
   तोड़कर फिर काटकर हम नीबुओं को ,
   मीठे गन्ने सा निचोड़ा जा रहा है ।।
   उनका ग़म अब धीरे-धीरे , धीरे-धीरे ,
   थोड़ा-थोड़ा , थोड़ा-थोड़ा जा रहा है ।।
   वो हुए नाकाम अपनी वज्ह से ही ,
   ठीकरा औरों पे फोड़ा जा रहा है ।।
   -डॉ. हीरालाल प्रजापति

ग़ज़ल : 258 - फूल.....

Image
देते हैं ज़ख़्म पत्थर को भी यहाँँ के फूल ।।
देती पहाड़ को भी टक्कर इधर की धूल ।।1।।
हेठी क्या इसमें ख़ुद बढ़ हाथी जो करले सुल्ह ,
चींटी से दुश्मनी को देना न ठीक तूल ।।2।।
सर , सर के बदले , टांँगों के बदले सिर्फ टाँँग ,
इंसाफ़ का मुझे यह लगता सही उसूल ।।3।।
सोने की चौखटों में कस-कस भी कीजै नज़्र ,
तब भी रहेंगे अंधों को आइने फ़ुज़ूल ।।4।।
पाए हैं उस जगह से सचमुच ही उसने आम ,
बोए थे जिस जगह पर उसने कभी बबूल ।।5।।
करते ज़रूर हैं वो मंज़ूर करना इश्क़ ,
लेकिन निकाह करना करते नहीं क़बूल ।।6।।
क्या हो गया गुनह पर अब वो करें गुनाह ,
करते नहीं थे भूले से भी कभी जो भूल ?7।।
( सुल्ह = सुलह , संधि , मेल / नज़्र = भेंट / फ़ुज़ूल = व्यर्थ )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा

Image
बन सका चिकना न सब कुछ खुरदरा बनवा लिया ।।
  सबने ही मीनार हमने चौतरा बनवा लिया ।।1।।
  जब बना पाए न हम अपना मकाँ तो जीते जी ,
  क़ब्र खुदवा अपनी अपना मक़्बरा बनवा लिया ।।2।।
  ज़ुर्म क्या गर अपनी बेख़बरी में अपने घर ही पर ,
  अपने बावर्ची से हलवा चरपरा बनवा लिया ।।3।।
  उन से खिंच कर उनकी हद में जा न पहुंँचेंं सोचकर ,
  हमने अपने आसपास इक दायरा बनवा लिया ।।4।।
  प्यास को अपनी बुझाने घर न गंगा ला सके ,
  इसलिए आंँगन में छोटा पोखरा बनवा लिया ।।5।।
  हुक़्म के उसके ग़ुलाम हम इस क़दर थे इक दफ़ा,
  उसने दी चोली तो हमने घाघरा बनवा लिया ।।6।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

Image
सच दोस्ती न रिश्तेदारी न प्यार है ।। दुनिया में सबसे बढ़कर बस रोज़गार है ।।1।। मंज़िल पे हमसे पहले पहुंँचे न क्यों वो फिर , हम पे न साइकिल भी उसपे जो कार है ।।2।। सामाँँ है जिसपे ऐशो-आराम के सभी , है फूल उसी को जीवन बाक़ी को ख़ार है ।।3।। बारूद के धमाके सा दे सुनाई क्यों , जब-जब भी उसके दिल में बजता सितार है ?4। हर वक़्त रोशनी का है इंतिज़ाम यूंँ , रातों को भी वहांँ पर लगता नहार है ।।5।। उतना है वह परेशाँँ , उतना ही ग़मज़दा , इस दौर में जो जितना ईमानदार है ।।6।।
( ख़ार = काँटा / नहार = दिन , दिवस ) -डॉ. हीरालाल प्रजापति

ग़ज़ल : 255 - वो मेरा है.......

Image
बड़ी जिद्दोजहद से , कशमकश से , सख्त़ मेहनत से ।। मोहब्बत मैंने की दुश्मन से अपने घोर नफ़रत से ।।1।। न भूले भी पड़ा क्यों इश्क़ के पचड़ों - झमेलों में ? बचाए ख़ुद को रखने ही ज़माने भर की आफ़त से ।।2।। वो मेरा है ; मगर अच्छा नहीं , कब तक रहूंँ मैं चुप ? बहुत मज़्बूर हूँ इस अपनी सच कहने की आदत से ।।3।। न रोऊँ मैं अजब है अपनी बर्बादी पे हांँ लेकिन , मैं जल उठता हूंँ झट काफ़ूर सा औरों की बरकत से ।।4।। मेरा सर काट के फ़ुटबॉल ही उसकी बना लो तुम , रहम करके न खेलो राह चलते मेरी अस्मत से ।।5।। -डॉ. हीरालाल प्रजापति

मुक्त मुक्तक : 886 - रिक्शे सी ज़िन्दगी......

Image
अजगर जहाँ में मैं भी अब बन गरुड़ रहा हूँ ।। मंज़िल पे रख निगाहें कहुँँ भी न मुड़ रहा हूँ ।। रिक्शे सी ज़िन्दगी को कर दूँ मैं कार  कैसे ? ये सोच सोच पंखों के बिन ही उड़ रहा हूँ ।।  -डॉ. हीरालाल प्रजापति

ग़ज़ल : 254 - चोरी चोरी

Image
उसको चोरी चोरी छुप कर देखना भाता नहीं है ।। क्या करूँ वह सामने खुलकर मेरे आता नहीं है ? लोग सब दहशतज़दा हों देखकर मुझको मगर क्यों , धमकियों से भी वो मेरी टुक भी घबराता नहीं है ? फाँसियों पर टाँगने वाला ज़रा सी भूल पर वो , क्यों गुनाहों पर भी मेरे मुझको मरवाता नहीं है ? क्यों दुआएखै़र मेरे वास्ते करता फिरे वो ? और क्यों....पूछूंँ तो अपना नाम बतलाता नहीं है ? नाम पर नुक्स़ाँ के उमरा सर उठाते आस्मांँ को , लाल गुदड़ी का वो लुटपिट कर भी चिल्लाता नहीं है ।। ( दुआएख़ैर = कुशलता की कामना ,नुक़्साँ = घाटा , उमरा = अमीर लोग ) -डॉ. हीरालाल प्रजापति