Sunday, April 22, 2018

ग़ज़ल : 253 - दामाद




ग़मज़दा लोगों को क्यों मैं याद रहता हूँ ?
दर्द में भी जो मज़ा सा शाद रहता हूँ !!
अपने सीने में जकड़ लो बाँध लो कसके ,
ऐसी ही क़ैदों में मैं आज़ाद रहता हूँ !!
उसके क़ब्ज़े में मैं उसकी ज़िद की ख़ातिर सच ,
बाप होकर उसकी बन औलाद रहता हूँ !!
शह्र की उजड़ी हुई हालत पे मत जाओ ,
अब भी मैं तब सा यहाँ आबाद रहता हूँ !!
जाने क्यों उसकी ख़ुदी के इक सुकूँ भर को ,
होके अव्वल भी मैं उसके बाद रहता हूँ !!
वक़्त देखो जो मुझे दुत्कारते आए ,
बनके उनका ही मैं अब दामाद रहता हूँ !!
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

मुक्तक : 583 - हे शिव जो जग में है

हे शिव जो जग में है अशिव तुरत निवार दो ।। परिव्याप्त मलिन तत्व गंग से निखार दो ।। स्वर्गिक बना दो पूर्वकाल सी धरा पुनः , या खो...