मुक्त मुक्तक : 883 - इक पाँव


क्या शह्र फ़क़त , क़स्बा ही न बस , 
इक गाँव से भी चल सकते हैं !!
कोटर , बिल , माँद , दरार , क़फ़स से 
ठाँव से भी चल सकते हैं !!
होते हैं दो पंख भी बेमानी 
उड़ने का इरादा हो न अगर ,
मंज़िल की मगर धुन हो तो कटे 
इक पाँव से भी चल सकते हैं !!
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक