मुक्त मुक्तक : 882 - कुत्ता



गर्दिश तक में कुत्ता भी आराम से सोता है !!
मीठे ख़्वाबों के दरिया में लेता गोता है !!
अहमक इंसाँ ख़ुशियों में भी करवट बदल बदल ,
बिस्तर पर सब रात बैठ-उठ रोता-धोता है !!
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी