मुक्त मुक्तक : 880 - एक कोंपल........


एक कोंपल था पका पत्ता न था ,
शाख से अपनी वो फिर क्यों झर गया ?
हमने माना सबकी एक दिन मृत्यु हो ,
किंतु क्यों वह शीघ्र इतने मर गया ?
लोग बतलाते हैं था वह अति भला ,
रास्ते सीधे सदा ही वह चला  ,
रह रहा था जन्म से परदेस में ,
आज होटल छोड़ अपने घर गया ।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म