Thursday, February 8, 2018

ग़ज़ल : 248 - चीता बना दे.........


                 
  मत बिलाशक़ तू कोई भी नाख़ुदा दे !!
                   सिर्फ़ मुझको तैरने का फ़न सिखा दे !!
                     जो किसी के पास में हरगिज़ नहीं हो ,
                     मुझको कुछ ऐसी ही तू चीज़ें जुदा दे !!
                      सबपे ही करता फिरे अपना करम तू ,
                     मुझपे भी रहमत ज़रा अपनी लुटा दे !!
                    जिस्म तो शुरूआत से हासिल है उसका ,
                   तू अगर मुम्किन हो उसका दिल दिला दे !!
                        सिर्फ़ ग़म ही ग़म उठाते फिर रहा हूँ ,
                  कुछ तो सिर पर ख़ुशियाँ ढोने का मज़ा दे !!
                       सबके आगे जिसने की तौहीन मेरी ,
                      मेरे क़दमों में तू उसका सिर झुका दे !!
                        हर कोई कहता है मैं इक केंचुआ हूँ ,
                      तू हिरन मुझको या फिर चीता बना दे !!
                              -डॉ. हीरालाल प्रजापति
                           

No comments:

मुक्तक : 941 - बेवड़ा

लोग चलते रहे , दौड़ते भी रहे ,  कोई उड़ता रहा , मैं खड़ा रह गया ।। बाद जाने के तेरे मैं ऐसी जगह ,  जो गिरा तो पड़ा का पड़ा रह गया ।...