मुक्त मुक्तक : 875

  
                मत ज़रा भी सोचना आख़िर गया हूँ मैं किधर ?
                ढूँढना भी मत कहीं जा कर उधर या आ इधर ।
                गिरके तेरी नज़रों से तुझसे ही तो बचने को मैं ,
                उस जगह जा छिप गया कोई नहीं लुकता जिधर ।।
                               -डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक