ग़ज़ल : 227 - भूनता है तलता है ॥




कोई कछुआ तो कोई सिंह समान चलता है ॥
कोई शीशे सा कोई बर्फ़ सा पिघलता है ॥
हस्ति के आगे क्या पिपीलिका है पर सोचो ,
सूर्य है सूर्य वैसे दीप भी तो जलता है ॥
कोई पाहन हथौड़ी , छैनी से बने मानव ,
कोई साँचों में गल के देवता में ढलता है ॥
है सुनिश्चित जब अंत तो महान मृत्युंजय -
जाप कितने भी तुम करालो ये न टलता है ॥
कोई खाए सँभल-सँभल के चल के भी ठोकर ,
और खा-खा के कोई ठोकरें सँभलता है ॥
जग हुआ उलटा शेर अब पका रहे सब्ज़ी ,
बैल खाने को माँस भूनता है तलता है ॥
सत्य रहता सड़क पे ज्यों अवैध संतति हो ,
और युवराज सा महल में झूठ पलता है ॥
एक फिरता है नंगा कड़कड़ाती सर्दी में ,
दूजा मौसम में लू के कंबल ओढ़ चलता है ॥
( हस्ति = हाथी , पिपीलिका = चींटी )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्तक : 946 - फूल