कितने अकबर ओ कितने सिकंदर हुए



कितने अकबर ओ कितने सिकंदर हुए ॥ 
आख़िरश मौत को सब मयस्सर हुए ॥ 
जेब किसके कफ़न में हुआ आज तक ,
वो हुए शाह या धुर फटीचर हुए ॥ 

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी