ग़ज़ल : 223 - तुम मेरी बाँहों में कुछ पल



या मेले में सँग मेरे कल्लोलो तो ।।
या एकांत में कांधे सर धर रो लो तो ।।1।।
सुनकर तुमको बहरापन मेरा जाता ,
क्यों चुप हो ? संकेतों से ही बोलो तो ।।2।।
क्यों रहते हो कुछ दिन से गुमसुम-गुमसुम ?
भेद है जो अपने मन में सब खोलो तो ।।3।।
तुम चट्टान हो तो मैं भी इक पर्वत हूँ ,
मैं भी डिग जाऊँगा यदि तुम डोलो तो ।।4।।
मुझको मिल जाएगा स्वर्ग धरा पर ही ,
तुम मेरी बाँहों में कुछ पल सो लो तो ।।5।।
मैं सम्पूर्ण तुम्हारा हो जाऊँगा सच ,
तुम थोड़े बस थोड़े मेरे हो लो तो ।।6।।
मुझ पर मैल लगा है कोई दाग़ नहीं ,
निष्कालिख हो जाऊँगा यदि धो लो तो ।।7।।
सप्त रँगों से क्या तुम से तो मैं हँस-हँस ,
रँगवा लूँ ख़ुद को कालिख भी घोलो तो ।।8।।
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्तक : 946 - फूल