Thursday, December 22, 2016

ग़ज़ल : 220 - शर्म बैठी है पर्दों में



जैसे ख़ुशबू गुलाबों में भी ना दिखे ।।
उनको नश्शा शराबों में भी ना दिखे ।।1।।
उस हसीं चश्म को भी मैं अंधा कहूँ ,
हुस्न जिसको गुलाबों में भी ना दिखे ।।2।।
बदनसीब इस क़दर कौन होगा भला ,
दिलरुबा जिसको ख़्वाबों में भी ना दिखे ?3।।
शर्म बैठी है पर्दों में छिपके कहीं ,
बेहयाई नकाबों में भी ना दिखे ।।4।।
ढूँढो सहराइयों में न तहज़ीब तुम ,
अब सलीका जनाबों में भी ना दिखे ।।5।।
अक़्ल उनको कहीं से भी मिलती नहीं ,
इल्म उनको किताबों में भी ना दिखे ।।6।।
( हसीं चश्म = सुनयन , सहराइयों = असभ्य )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति  

No comments:

मुक्तक : 941 - बेवड़ा

लोग चलते रहे , दौड़ते भी रहे ,  कोई उड़ता रहा , मैं खड़ा रह गया ।। बाद जाने के तेरे मैं ऐसी जगह ,  जो गिरा तो पड़ा का पड़ा रह गया ।...