Thursday, November 10, 2016

*मुक्त-मुक्तक : 866 - ये तेरा जिस्म



तू सिर से पाँव तक बेशक निहायत खूबसूरत है ॥ 
ये तेरा जिस्म संगेमरमरी कुदरत की मूरत है ॥ 

नहीं बस नौजवानों की , जईफ़ों की भी अनगिनती ;

तू सचमुच मलिका-ए-दिल है , मोहब्बत है , ज़रूरत है ॥

(  जईफ़ों = वृद्धों )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

No comments:

मुक्तक : 941 - बेवड़ा

लोग चलते रहे , दौड़ते भी रहे ,  कोई उड़ता रहा , मैं खड़ा रह गया ।। बाद जाने के तेरे मैं ऐसी जगह ,  जो गिरा तो पड़ा का पड़ा रह गया ।...