*मुक्त-मुक्तक : 865 - उन आँखों पे पड़ी नक़ाबें हैं ॥

पढ़ो तो फ़लसफे की दो अहम किताबें हैं ॥
जो पी सको तो ये न आब ; ये शराबें हैं ॥
मगर क़िले के बंद सद्र दर सी पलकों की ;
अभी बड़ी उन आँखों पे पड़ी नक़ाबें हैं ॥
 ( फ़लसफ़ा = दर्शन ,अहम = महत्वपूर्ण ,आब = पानी ,सद्र दर = मुख्य दरवाजा ,नक़ाबें = पर्दा )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी