*मुक्त-मुक्तक : 863 - दिल की बात ?

दो , चार न दस-बीस साल बल्कि ताहयात ॥
करवट बदल-बदल के,जाग-जाग सारी रात ॥
समझोगे कैसे तुम दिमाग़दारों ख़ब्त में ;
मैंने तो की है शायरी में सिर्फ़ दिल की बात ?
( ताहयात = सारा जीवन , ख़ब्त = पागलपन )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी