ग़ज़ल : 218 - जंगलों की आग बन जा



उनके दिल में कर न तू बसने की तैयारी ।।
उनकी नज़रों में कोई पहले ही है तारी ।।1।।
जंगलों की आग बन जा या तू बड़वानल ,
वो तुझे समझेंगे फिर भी सिर्फ़ चिंगारी ।।2।।
इससे बचके रहना ही इसका इलाज होता ,
मत लगा दिल को मोहब्बत जैसी बीमारी ।।3।।
रख खुली खिड़की औ रोशनदान वरना दम -
घोंट के रख देगी तेरा चार दीवारी ।।4।।
रह्न रख दे अपनी सारी मिल्कियत लेकिन ,
छोड़ना मत क़र्ज़ की ख़ातिर तू खुद्दारी ।।5।।
तेरी मर्ज़ी कर ले अपने साथ तू धोख़ा ,
मत कभी अपने वतन से करना ग़द्दारी ।।6।।
साथ उनके मौत सिर पर ज़ुल्फ जैसी थी ,
उनके बिन तो ज़िंदगी भी बोझ है भारी ।।7।।
( तारी = छाया हुआ ,बड़वानल = समुद्र के अंदर जलती हुई आग ,रह्न = गिरवी ,मिल्कियत = धन-संपत्ति ,खुद्दारी = स्वाभिमान ,ज़ुल्फ = केश , बाल )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्तक : 946 - फूल