*मुक्त-मुक्तक : 859 - दुश्मन की है तारीफ़

मेरी हर तक्लीफ़ हर मुश्किल का यारों यक-ब-यक _
उसने मेरे सामने हल चुटकियों में धर दिया ॥
आज उस दुश्मन की है तारीफ़ का मंशा बहुत ,
काम जिसने आज जानी दोस्त वाला कर दिया ॥
थी बहुत जिददो जहद थी कशमकश मैं क्या करूँ ?
सोचता रहता था बस ; फाँसी चढ़ूँ या कट मरूँ ?
जानता था ख़ुदकुशी करना है मुझको इसलिए ;
उसने आकर मेरे मुँह में जह्र लाकर भर दिया ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी