स्वतन्त्रता दिवस

स्वतन्त्रता दिवस के

रंगारंग कार्यक्रमों के उपरांत
कागज़ अथवा पन्नी
के छोटे-छोटे

तिरंगों को
यहाँ वहाँ फेंककर
हिंदुस्तान के सम्मान

को न कुचलें ।
- डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म