*मुक्त-मुक्तक : 856 - माथे धर वंदन होता ॥

प्रातः के पश्चात सांध्य भी माथे धर वंदन होता ॥
तुलसी की मानस का घर-घर में सस्वर वाचन होता ॥
पढ़कर मनोरंजन ना कर यदि हृदयंगम सब करते तो ,
मर्यादाओं का जग में सच क्योंकर उल्लंघन होता ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी