*मुक्त-मुक्तक : 850 - तन से सब उतार के ॥




[ चित्र google search से साभार ]

कर रहा है स्नान कोई तन से सब उतार के ॥
कोई भी न देखता ये सोच ये विचार के ॥
उसके इस भरोसे को न मार डाल इस तरह ,
झाँक-झाँक के तू गुप्त छिद्र से किवार के ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म