*मुक्त-मुक्तक : 848 - मग़्ज़ , दिल , अक़्ल




मग़्ज़ , दिल , अक़्ल सभी तीन बिछा रक्खे थे ॥
फूल चुन चुन हसीं रंगीन बिछा रक्खे थे ॥
तेरे आने की हर इक राह पे डग डग मैंने ,
अपनी आँखों के दो क़ालीन बिछा रक्खे थे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी