Tuesday, July 5, 2016

मुक्तक : 848 - मग़्ज़ , दिल , अक़्ल




मग़्ज़ , दिल , अक़्ल सभी तीन बिछा रक्खे थे ॥
फूल चुन बाग़ से रंगीन बिछा रक्खे थे ॥
तेरे आने की हर इक राह पे मैंने डग-डग ,
अपनी आँखों के दो क़ालीन बिछा रक्खे थे ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


No comments:

ग़ज़ल : 285 - बदनसीब हरगिज़ न हो

चोर हो , डाकू हो , क़ातिल हो , ग़रीब हरगिज़ न हो ।। आदमी कुछ हो , न हो बस , बदनसीब हरगिज़ न हो ।। ज़िंदगी उस शख़्स की , क्या ज़िंदगी है दो...