*मुक्त-मुक्तक : 835








खट्टे - मीठे के सँग तीखापन - कड़वाहट भी होती ॥
चुप-चुप सन्नाटों के सँग में फुस-फुस आहट भी होती ॥
जीवन में क्या-क्या है शामिल _गिनवाना बालों जैसा ?
बेफ़िक्री भी इसमें कुछ-कुछ , कुछ घबराहट भी होती ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी