*मुक्त-मुक्तक : 834 - तुममें स्वर विध्वंस के ॥

कृष्ण के सब मूक हो वाचाल होते कंस के ॥
उठ रहे हैं धीरे-धीरे तुममें स्वर विध्वंस के ॥
हो गया ऐसा तुम्हारे साथ में क्या दुर्घटित ,
रँग रहे हो काग रँग सब छोड़कर ढंग हंस के ?

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी