*मुक्त-मुक्तक : 810 - किसकी है वह ?



मूर्ति मन मंदिर में मेरे माप की बैठी रही ॥
चाहता था जैसा मैं उस नाप की बैठी रही ॥
पूछते हो किसकी है वह ? और किसकी हो सके ?
आप की बस आप की बस आप की बैठी रही ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी