*मुक्त-मुक्तक : 802 - नग्नाटक ॥


दे चुका जीवन का मैं हर मूल्य हर भाटक ॥
जबकि मुझ पर खुल रहा अब मृत्यु का फाटक ॥
वस्त्र - आभूषण से रहता था लदा कल तक ,
आज गलियों में मैं घूमूँ बनके नग्नाटक ॥
( भाटक=किराया ,फाटक=द्वार ,नग्नाटक=सदा नंगा घूमने वाला साधु )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म