*मुक्त-मुक्तक : 797 - चलने की तैयारियाँ ॥



ख़ुद ख़रीदी हैं जाँसोज़ बीमारियाँ ॥
हो रहीं पुख्ता चलने की तैयारियाँ ॥
तब पता ये चला फुँक चुका जब जिगर ,
जाँ की क़ीमत पे कीं हमने मैख़्वारियाँ ॥
( जाँसोज़=जाँ को जलाने वाली ,मैख़्वारियाँ=शराबखोरी )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म