Pages - Menu

Disclamer

All posts are covered under copyright law . Any one who wants to use the content should take permission the author before reproducing the post in full or part in blog medium or print medium by any other way.Indian Copyright Rules

Wednesday, December 30, 2015

*मुक्त-मुक्तक : 795 - थमती न थीं




थमती न थीं इक ठौर पे रहती थीं जो चंचल ॥
नदियों सी जो इठलाती चला करती थीं कलकल ॥
क्या हो गया गहरी भरी-भरी वो झील सी ,
बनकर के रह गईं हैं आँखें थार मरुस्थल ?
-डॉ. हीरालाल प्रजापति


2 comments:

Dilbag Virk said...

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 31-12-2015 को चर्चा मंच पर अलविदा - 2015 { चर्चा - 2207 } में दिया जाएगा । नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनाओं के साथ
धन्यवाद

PBCHATURVEDI प्रसन्नवदन चतुर्वेदी said...

बेहतरीन और उम्दा प्रस्तुति....आपको सपरिवार नववर्ष की शुभकामनाएं...HAPPY NEW YEAR 2016...
PLAEASE VISIT MY BLOG AND SUBSCRIBE MY YOUTUBE CHANNEL FOR MY NEW SONGS.