*मुक्त-मुक्तक : 793 - पीने से रोक लेते ?



मर-मर के मुझको गर तुम 
जीने से रोक लेते ॥
सीना अड़ा के अपने 
सीने से रोक लेते ॥
क्यों होता बादाकश क्यों 
बेगाना होश से मैं ,
पहली ही काश ! बोतल 
पीने से रोक लेते ?
( बादाकश=शराबी )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी