*मुक्त-मुक्तक : 782 - चने नहीं चबाना है ॥




लाल मिर्ची औ बस चने नहीं चबाना है ॥
सोने – चाँदी के पेट भरके कौर खाना है ॥
आज रहता हूँ मैं फ़ुटपाथ पे कल मुझको मगर ,
रहने को घर नहीं ब ख़ुदा महल बनाना है ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति




Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म