*मुक्त-मुक्तक : 776 - दलदल में धँस रहा ॥

वो जानबूझ कर के ही दलदल में धँस रहा ॥
मर्ज़ी से अपनी काँटों के जंगल में फँस रहा ॥
इस धँसने और फँसने से होगा उसे ज़रूर -
कुछ फ़ायदा तभी तो दर्द में भी हँस रहा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति 

Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी