*मुक्त-मुक्तक : 771 - लबालब ग़ुरूर था ॥

सच था कि झूठ इसपे
ग़ुमाँ तो ज़ुरूर था ॥
मेरा है तू ये मुझमें
लबालब ग़ुरूर था ॥
आँखें खुलीं तो आस्माँ से
औंधा गिर पड़ा ,
खाली हुआ जो मुझमें
छलकता सुरूर था ॥

-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म