*मुक्त-मुक्तक : 769 - ज़िंदगी काफ़ूर सी.....

आस्माँ से गोल पत्थर जैसी गिरती है ॥
फ़र्श पर बोतल के टुकड़ों सी बिखरती है ॥
पूछते हो तो सुनो सच आजकल अपनी
ज़िंदगी काफ़ूर सी उड़ती गुजरती है ॥
( काफ़ूर = कपूर )
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Comments

Popular posts from this blog

विवाह अभिनंदन पत्र

विवाह आभार पत्र

मुक्त ग़ज़ल : 267 - तोप से बंदूक