*मुक्तक : 764 - ज़िंदगी करती रही....




[चित्रांकन : डॉ. हीरालाल प्रजापति ]

ज़िंदगी करती रही अपनी फ़ज़ीहत रोज़ ही ॥
और हम लेते रहे उससे नसीहत रोज़ ही ॥
रोज़ ही फँसते रहे हम हादसों में और फिर ,
शर्तिया होती रही उनसे फ़राग़त रोज़ ही ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति



Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 256 - मंज़िल

मुक्त-ग़ज़ल : 257 - मक़्बरा......

मुक्त ग़जल : 254 - चोरी चोरी