*मुक्त-मुक्तक : 763 - एक ही मक़सद........




ज़िंदगी का एक ही मक़सद रखा ले लूँ मज़ा ॥
जिस तरह भी बन पड़े कर लूँ हर इक पूरी रज़ा ॥
लेकिन इस तक़्दीर ने भी ठान रक्खी थी ,
वो इनामों की जगह देती रही चुन-चुन सज़ा ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति




Comments

Popular posts from this blog

मुक्त-ग़ज़ल : 262 - पागल सरीखा

विवाह अभिनंदन पत्र

मुक्त-ग़ज़ल : 264 - पेचोख़म